Mahadev Satta App: महादेव बेटिंग ऐप के प्रमोटर्स के घर होंगे कुर्क, सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल के खिलाफ स्थायी वारंट जारी..

आनलाइन सट्टा एप महादेव बुक के प्रमोटर सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल के खिलाफ अब न्यायालय ने भी स्थायी वारंट जारी कर दिया है। इसका मतलब ये है कि दोनों आरोपित का जब भी कोई पुख्ता सुराग मिलता है, तब उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा ही जाएगा।

Bhilai News: ऑनलाइन सट्टेबाजी ऐप महादेव बुक के मालिक, सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल, अब अदालत द्वारा जारी स्थायी वारंट का विषय हैं। इसका तात्पर्य यह है कि यदि उनके संबंध में कोई ठोस सबूत पाया जाता है तो दोनों आरोपी पक्षों को निस्संदेह हिरासत में लिया जाएगा और जेल में डाल दिया जाएगा। निरंतर वारंट जारी होने के कारण ये दोनों आरोपी वर्तमान में पुलिस द्वारा सर्वाधिक वांछित व्यक्ति हैं। कोर्ट के फैसले के बाद रायपुर पुलिस ने सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल के घर की कुर्की का आदेश दिया है।

आपको याद दिला दें कि आरोपी सौरभ को पहले दुर्ग रेंज आईजी राम गोपाल गर्ग और एसपी जितेंद्र शुक्ला ने हिरासत में लिया था। रवि उप्पल और चंद्राकर पर इनाम की घोषणा की गई है। भारत सरकार ने पांच लाख रुपये का इनाम घोषित किया है। दोनों पुलिस द्वारा इनाम की घोषणा के बाद अब कोर्ट ने दोनों प्रतिवादियों की गिरफ्तारी के लिए स्थाई वारंट जारी कर दिया है। इसके बाद पुलिस अब उनकी तलाश में जुट गई है।

हालांकि अनौपचारिक बातचीत में दोनों आरोपियों के बारे में जानकारी सामने आई है, लेकिन पुलिस के पास फिलहाल उनका कोई औपचारिक रिकॉर्ड नहीं है। नतीजतन, पुलिस ने अब कहा है कि इन आरोपियों के बारे में विशेष जानकारी देने वाले को इनाम मिलेगा। गौरतलब है कि ईडी ने महादेव बुक ऑनलाइन सट्टेबाजी मामले में इन प्रतिवादियों की तलाश शुरू कर दी है। अधिकारी आरोपियों के आरोपों की जांच कर रहे हैं कि उन्होंने सट्टेबाजी के लिए धन शोधन के लिए हवाला का इस्तेमाल किया।

रवि उप्पल के दुबई में गिरफ्तार होने की उड़ी थी खबर

बताया गया कि महादेव बुक्स के प्रमोटर रवि उप्पल को दुबई में हिरासत में लिया गया था और जल्द ही उन्हें भारत ले जाया जाएगा, हालांकि समय के साथ, इस कहानी में अन्य अटकलें भी जुड़ गईं। रवि उप्पल की तरह, सौरभ चंद्राकर भी अफवाह का विषय थे कि उन्हें श्रीलंका में हिरासत में लिया गया था, लेकिन यह कहानी भी झूठी निकली।