Bilaspur News: कंपनी से रुपए दिलाने का झांसा, जेवर लेकर फरार महिला गिरोह पकड़ाया

Bilaspur News:पुलिस ने गिरफ्तार महिलाओं से सोने का झुमका, मंगलसूत्र, लाकेट और दो जोड़ी चांदी की पायल जब्त की है।

Bilaspur News: महिला के गहनों का स्टाइल पसंद आने पर सकरी पुलिस ने कंपनी से पैसे ऐंठने के आरोप में दो फरार महिलाओं समेत चार लोगों को हिरासत में लिया है। वहीं, मामले में एक महिला पकड़ से बच रही है। गिरफ्तार महिलाओं के पास से सोने की बाली, मंगलसूत्र, लॉकेट और दो सेट चांदी की पायल मिलीं। गिरफ्तार संदिग्ध को अदालत में पेश किया गया।

सकरी क्षेत्र के लोखंडी में रहने वाला राजू यादव राजमिस्त्री , 2 जून को उन्होंने काम शुरू किया और उसकी पत्नी लक्ष्मी घर पर थी ,इसी बीच तीन महिलाएं उसके घर पहुंचीं। उन्होंने लक्ष्मी को पुराने बर्तन के स्थान पर नया बर्तन लेने का निर्देश दिया। लक्ष्मी ने पुराने पीतल के बर्तन देने और नया बर्तन स्वीकार करने का उल्लेख किया। महिला अगले दिन एक नया बर्तन लेकर लौटी। उन्होंने रुपये इकट्ठा करने का जिक्र किया। उनकी टिप्पणी के जवाब में, लक्ष्मी ने अपने सोने और चांदी के आभूषण महिलाओं को सौंप दिए।

महिलाएं गहने लेकर भाग गईं। महिला अपने पति को स्थिति के बारे में सूचित करते हुए लापता महिलाओं की तलाश कर रही थी। जब जालसाज महिलाओं का पता नहीं चला तो उसने घटना की सूचना सकरी थाने में दी। नतीजतन, पुलिस दस्ते ने जालसाज महिलाओं द्वारा दिए गए मोबाइल नंबर की लोकेशन खोज निकाली. इस आधार पर पुलिस ने हाल मुकाम महाराज नगर मैहर, मध्य प्रदेश की शबनम मल्हार (26), शोभा को हिरासत में लिया। शोभा मल्हार (35) निवासी तिलैया, रंजीत मल्हार (26) निवासी महाराज नगर मैहर, सुरेंद्र मल्हार (30) निवासी झारखंड के हजारीबाग जिला. थाना माण्डू जिला रामगढ झारखण्ड से पकड़ा गया। जबकि, एक महिला बेबी उर्फ बेबिया भागने में सफल रही. पुलिस ने आरोपी के कब्जे से सोने-चांदी के आभूषण और मोबाइल जब्त कर लिया है।

रतनपुर क्षेत्र में भी हो चुकी है इसी तरह की जालसाजी

पिछले दिनों रतनपुर क्षेत्र के घांसीपुर और मेंड्रापारा में भी ऐसे हादसे हो चुके हैं। रतनपुर इलाके में महिलाओं को पुराने सामान के बदले नया बर्तन मिलने पर आभूषण का डिजाइन पसंद आने पर पैसे देने का झांसा दिया गया है।

पुलिस के मुताबिक, जालसाजी को उसी समूह के अन्य सदस्यों ने अंजाम दिया होगा। पुलिस ने उन्हें पीड़िता के संबंध में पहचान भी लिया. हालांकि, पीड़ितों ने गिरफ्तार संदिग्ध को पहचानने से इनकार कर दिया। इसके बाद, अधिकारी समूह के अन्य सदस्यों की तलाश कर रहे हैं।